कोई शिकवा तो ज़ेर-ए-लब होगा

कोई शिकवा तो ज़ेर-ए-लब होगा

कुछ ख़मोशी का भी सबब होगा

मैं भी हूँ बज़्म में रक़ीब भी है

आख़िरी फ़ैसला तो अब होगा

आएँ मय-ख़ाने में कभी वाइ'ज़

हूर भी होगी और सब होगा

बोल ऐ मेरे दिल की तारीकी

तेरा सूरज तुलूअ' कब होगा

सुनता होगा सदाएँ उस दिल की

शाम-ए-तन्हाई में वो जब होगा

कब छटेंगी ये बदलियाँ ग़म की

साफ़ मतला ये 'जोश' कब होगा

(1495) Peoples Rate This

Your Thoughts and Comments

Koi Shikwa To Zer-e-lab Hoga In Hindi By Famous Poet A G Josh. Koi Shikwa To Zer-e-lab Hoga is written by A G Josh. Complete Poem Koi Shikwa To Zer-e-lab Hoga in Hindi by A G Josh. Download free Koi Shikwa To Zer-e-lab Hoga Poem for Youth in PDF. Koi Shikwa To Zer-e-lab Hoga is a Poem on Inspiration for young students. Share Koi Shikwa To Zer-e-lab Hoga with your friends on Twitter, Whatsapp and Facebook.