शबाब आ गया उस पर शबाब से पहले

शबाब आ गया उस पर शबाब से पहले

दिखाई दी मुझे ता'बीर ख़्वाब से पहले

जमाल-ए-यार से रौशन हुई मिरी दुनिया

वो चमकी दिल में किरन माहताब से पहले

दिल-ओ-निगाह पे क्यूँ छा रहा है ऐ साक़ी

ये तेरी आँख का नश्शा शराब से पहले

न पेश नामा-ए-आमाल कर अभी ऐ 'जोश'

हिसाब कैसा ये रोज़-ए-हिसाब से पहले

(2645) Peoples Rate This

Your Thoughts and Comments

Shabab Aa Gaya Us Par Shabab Se Pahle In Hindi By Famous Poet A G Josh. Shabab Aa Gaya Us Par Shabab Se Pahle is written by A G Josh. Complete Poem Shabab Aa Gaya Us Par Shabab Se Pahle in Hindi by A G Josh. Download free Shabab Aa Gaya Us Par Shabab Se Pahle Poem for Youth in PDF. Shabab Aa Gaya Us Par Shabab Se Pahle is a Poem on Inspiration for young students. Share Shabab Aa Gaya Us Par Shabab Se Pahle with your friends on Twitter, Whatsapp and Facebook.