हू-ब-हू आप ही की मूरत है

हू-ब-हू आप ही की मूरत है

ज़िंदगी कितनी ख़ूबसूरत है

जिस तरह फूल की गुलिस्ताँ को

ज़िंदगी को मिरी ज़रूरत है

ख़ास मेहमाँ हैं आदम ओ हव्वा

इक नई दुनिया की महूरत है

कहती है कुछ ज़बाँ से कह 'अकबर'

इस तरह काहे मुझ को घूरत है

(407) Peoples Rate This

Your Thoughts and Comments

Hu-ba-hu Aap Hi Ki Murat Hai In Hindi By Famous Poet Akbar Hameedi. Hu-ba-hu Aap Hi Ki Murat Hai is written by Akbar Hameedi. Complete Poem Hu-ba-hu Aap Hi Ki Murat Hai in Hindi by Akbar Hameedi. Download free Hu-ba-hu Aap Hi Ki Murat Hai Poem for Youth in PDF. Hu-ba-hu Aap Hi Ki Murat Hai is a Poem on Inspiration for young students. Share Hu-ba-hu Aap Hi Ki Murat Hai with your friends on Twitter, Whatsapp and Facebook.