एज़रा-पउंड की मौत पर

तुझ को किस फूल का कफ़न हम दें

तू जुदा ऐसे मौसमों में हुआ

जब दरख़्तों के हाथ ख़ाली हैं

इंतिज़ार-ए-बहार भी करते

दामन-ए-चाक से अगर अपने

कोई पैमान फूल का होता

आ तुझे तेरे सब्ज़ लफ़्ज़ों में

दफ़्न कर दें कि तेरे फ़न जैसी

दहर में कोई नौ-बहार नहीं

(1161) Peoples Rate This

Your Thoughts and Comments

Ezra-Pound Ki Maut Par In Hindi By Famous Poet Akhtar Husain Jafri. Ezra-Pound Ki Maut Par is written by Akhtar Husain Jafri. Complete Poem Ezra-Pound Ki Maut Par in Hindi by Akhtar Husain Jafri. Download free Ezra-Pound Ki Maut Par Poem for Youth in PDF. Ezra-Pound Ki Maut Par is a Poem on Inspiration for young students. Share Ezra-Pound Ki Maut Par with your friends on Twitter, Whatsapp and Facebook.