नहीं ख़स्ता-हाली पे ना-मुतमइन हम

नहीं ख़स्ता-हाली पे ना-मुतमइन हम

यही टाट मख़मल यही टाट रेशम

हम अच्छी तरह जानते हैं ये नासेह

कि सच्चाई का अज्र है साग़र-ए-सम

किसी हाल में भी रखे रखने वाला

भला दहर में क्या ख़ुशी और क्या ग़म

नहीं अपनी ग़ाएब-दिमाग़ी पे हैरत

मोहब्बत में होता है अक्सर ये आलम

कोई शोर सा दिल में रहता है बरपा

दमा-दम दमा-दम दमा-दम दमा-दम

रहे तज़्किरे अम्न के आश्ती के

मगर बस्तियों पर बरसते रहे बम

कहाँ चैन से आज दुनिया में कोई

ये जन्नत बना दी गई है जहन्नम

न गुज़रा कभी एक लम्हा सुकूँ से

मोहब्बत में आए वो दिन-रात पैहम

(733) Peoples Rate This

Your Thoughts and Comments

Nahin KHasta-haali Pe Na-mutmain Hum In Hindi By Famous Poet Anwar Shuoor. Nahin KHasta-haali Pe Na-mutmain Hum is written by Anwar Shuoor. Complete Poem Nahin KHasta-haali Pe Na-mutmain Hum in Hindi by Anwar Shuoor. Download free Nahin KHasta-haali Pe Na-mutmain Hum Poem for Youth in PDF. Nahin KHasta-haali Pe Na-mutmain Hum is a Poem on Inspiration for young students. Share Nahin KHasta-haali Pe Na-mutmain Hum with your friends on Twitter, Whatsapp and Facebook.