बाबर रहमान शाह कविता, ग़ज़ल तथा कविताओं का बाबर रहमान शाह

बाबर रहमान शाह कविता, ग़ज़ल तथा कविताओं का बाबर रहमान शाह
नामबाबर रहमान शाह
अंग्रेज़ी नामBabar Rahman Shah

थकन से चूर है सारा वजूद अब मेरा

मुफ़्लिसी ने जा-ब-जा लूटा हमें

किसी के जाल में आ कर मैं अपना दिल गँवा बैठा

दिल से आख़िर चराग़-ए-वस्ल बुझा

दिल ने हम से अजब ही काम लिया

ऐ परी-ज़ाद तेरे जाने पर

आतिश-ए-इश्क़ जब जलाती है

तुम को मैं जब सलाम करता हूँ

नहीं नहीं ये मिरा अक्स हो नहीं सकता

मान लो साहिबो कहा मेरा

किसी के जाल में आ कर मैं अपना दिल गँवा बैठा

दिल ने हम से अजब ही काम लिया

दास्तान-ए-ग़म तुझे बतलाएँ क्या

Babar Rahman Shah Poetry in Hindi - Read Best Poetry, Ghazals & Nazams by Babar Rahman Shah including Sad Shayari, Hope Poetry, Inspirational Poetry, Sher SMS & Sufi Shayari in Hindi written by great Sufi Poet Babar Rahman Shah. Free Download all kind of Babar Rahman Shah Poetry in PDF. Best of Babar Rahman Shah Poetry in Hindi. Babar Rahman Shah Ghazals and Inspirational Nazams for Students.