क्यूँ यूरिश-ए-तरब में भी ग़म याद आ गए

क्यूँ यूरिश-ए-तरब में भी ग़म याद आ गए

सोचा तिरे करम को सितम याद आ गए

ऐ दोस्त मय-कदे में ये कैसी हवा चली

सब फ़ित्ना-हा-ए-दैर-ओ-हरम याद आ गए

रौशन अभी हुआ था सर-ए-जादा-ए-हयात

इक काकुल-ए-सियाह के ख़म याद आ गए

अब क्या दिखा रहा है रह-ए-माह-ओ-कहकशाँ

नासेह किसी के नक़्श-ए-क़दम याद आ गए

एक एक कर के टूट चुके हैं ख़िरद के बुत

बुत-ख़ाना-ए-जुनूँ के सनम याद आ गए

(1432) Peoples Rate This

Your Thoughts and Comments

Kyun Yurish-e-tarab Mein Bhi Gham Yaad Aa Gae In Hindi By Famous Poet Ehtisham Husain. Kyun Yurish-e-tarab Mein Bhi Gham Yaad Aa Gae is written by Ehtisham Husain. Complete Poem Kyun Yurish-e-tarab Mein Bhi Gham Yaad Aa Gae in Hindi by Ehtisham Husain. Download free Kyun Yurish-e-tarab Mein Bhi Gham Yaad Aa Gae Poem for Youth in PDF. Kyun Yurish-e-tarab Mein Bhi Gham Yaad Aa Gae is a Poem on Inspiration for young students. Share Kyun Yurish-e-tarab Mein Bhi Gham Yaad Aa Gae with your friends on Twitter, Whatsapp and Facebook.