कितने बा-होश हो गए हम लोग

कितने बा-होश हो गए हम लोग

ख़ुद-फ़रामोश हो गए हम लोग

जिस ने चाहा हमें अज़िय्यत दी

और ख़ामोश हो गए हम लोग

दिल की आवाज़ भी नहीं सुनते

क्या गिराँ-गोश हो गए हम लोग

हम को दुनिया ने पारसा समझा

जब ख़ता-कोश हो गए हम लोग

पी गए झिड़कियाँ भी साक़ी की

क्या बला-नोश हो गए हम लोग

इस तरह पी रहे हैं ख़ून अपना

जैसे मय-नोश हो गए हम लोग

शहर में इस क़दर थे हंगामे

घर में रू-पोश हो गए हम लोग

कितने चेहरों पे आ गई रंगत

जब से ख़ामोश हो गए हम लोग

ज़ख़्म पाए हैं इस क़दर 'एजाज़'

आज गुल-पोश हो गए हम लोग

(683) Peoples Rate This

Your Thoughts and Comments

Kitne Ba-hosh Ho Gae Hum Log In Hindi By Famous Poet Ejaz Rahmani. Kitne Ba-hosh Ho Gae Hum Log is written by Ejaz Rahmani. Complete Poem Kitne Ba-hosh Ho Gae Hum Log in Hindi by Ejaz Rahmani. Download free Kitne Ba-hosh Ho Gae Hum Log Poem for Youth in PDF. Kitne Ba-hosh Ho Gae Hum Log is a Poem on Inspiration for young students. Share Kitne Ba-hosh Ho Gae Hum Log with your friends on Twitter, Whatsapp and Facebook.