मल्का-ए-तरन्नुम नूर-ए-जहाँ की नज़्र

नग़्मा भी है उदास तो सर भी है बे-अमाँ

रहने दो कुछ तो नूर अँधेरों के दरमियाँ

इक उम्र जिस ने चैन दिया इस जहान को

लेने दो सुख का साँस उसे भी सर-ए-जहाँ

तय्यार कौन है जो मुझे बाज़ुओं में ले

इक ये नवा न हो तो कहो जाऊँ मैं कहाँ

अगले जहाँ से मुझ को यही इख़्तिलाफ़ है

ये सूरतें ये गीत सदाएँ कहाँ वहाँ

ये है अज़ल से और रहेगा ये ता-अबद

तुम से न जल सकेगा तरन्नुम का आशियाँ

(1139) Peoples Rate This

Your Thoughts and Comments

Malka-e-tarannum Nur-e-jahan Ki Nazr In Hindi By Famous Poet Habib Jalib. Malka-e-tarannum Nur-e-jahan Ki Nazr is written by Habib Jalib. Complete Poem Malka-e-tarannum Nur-e-jahan Ki Nazr in Hindi by Habib Jalib. Download free Malka-e-tarannum Nur-e-jahan Ki Nazr Poem for Youth in PDF. Malka-e-tarannum Nur-e-jahan Ki Nazr is a Poem on Inspiration for young students. Share Malka-e-tarannum Nur-e-jahan Ki Nazr with your friends on Twitter, Whatsapp and Facebook.