महफ़िल में उस पे रात जो तू मेहरबाँ न था

महफ़िल में उस पे रात जो तू मेहरबाँ न था

ऐसा सुबुक था ग़ैर कि कुछ भी गिराँ न था

वस्ल-ए-बुताँ में ख़ौफ़-ए-फ़िराक़-ए-बुताँ न था

गोया कि अपने सर पे कभी आसमाँ न था

पेश-ए-रक़ीब पुर्सिश-ए-दिल तुम ने ख़ूब की

दुश्मन था पर्दा-दार न था राज़-दाँ न था

इबरत दिला चुकी थी हमारी सितम-कशी

मुतलक़ शब-ए-विसाल अदू शादमाँ न था

बिगड़े हुए रक़ीब से वो आए मेरे घर

इस हुस्न-ए-इत्तिफ़ाक़ का कोई गुमाँ न था

सरगर्म-ए-नाला क्यूँ रही बुलबुल बहार में

क्या हम न थे असीर कि ज़ौक़-ए-फ़ुग़ाँ न था

सरशार-ए-बे-ख़ुदी थे 'असर' बज़्म-ए-यार में

क्या जानें हम रक़ीब कहाँ था कहाँ न था

(638) Peoples Rate This

Your Thoughts and Comments

Mahfil Mein Us Pe Raat Jo Tu Mehrban Na Tha In Hindi By Famous Poet Imdad Imam Asar. Mahfil Mein Us Pe Raat Jo Tu Mehrban Na Tha is written by Imdad Imam Asar. Complete Poem Mahfil Mein Us Pe Raat Jo Tu Mehrban Na Tha in Hindi by Imdad Imam Asar. Download free Mahfil Mein Us Pe Raat Jo Tu Mehrban Na Tha Poem for Youth in PDF. Mahfil Mein Us Pe Raat Jo Tu Mehrban Na Tha is a Poem on Inspiration for young students. Share Mahfil Mein Us Pe Raat Jo Tu Mehrban Na Tha with your friends on Twitter, Whatsapp and Facebook.