दामन-ए-दिल है तार तार अपना

दामन-ए-दिल है तार तार अपना

काम कर ही गई बहार अपना

जब से तस्कीन दे गया है कोई

और भी दिल है बे-क़रार अपना

देख कर भी उन्हें न देख सके

रह गया शौक़-ए-इंतिज़ार अपना

जुस्तुजू आ गई सर-ए-मंज़िल

रह गया राह में ग़ुबार अपना

वो नज़र फिर गई तो क्या होगा

उस नज़र तक है ए'तिबार अपना

इस की हर जुम्बिश-ए-नज़र के साथ

रुख़ बदलती गई बहार अपना

हर-नफ़स है उन्हीं की याद 'इक़बाल'

ग़म है कैसा सदा-बहार अपना

(545) Peoples Rate This

Your Thoughts and Comments

Daman-e-dil Hai Tar Tar Apna In Hindi By Famous Poet Iqbal Safi Puri. Daman-e-dil Hai Tar Tar Apna is written by Iqbal Safi Puri. Complete Poem Daman-e-dil Hai Tar Tar Apna in Hindi by Iqbal Safi Puri. Download free Daman-e-dil Hai Tar Tar Apna Poem for Youth in PDF. Daman-e-dil Hai Tar Tar Apna is a Poem on Inspiration for young students. Share Daman-e-dil Hai Tar Tar Apna with your friends on Twitter, Whatsapp and Facebook.