हुस्न-ए-फ़ितरत की आबरू मुझ से

हुस्न-ए-फ़ितरत की आबरू मुझ से

आब ओ गिल में है रंग-ओ-बू मुझ से

मेरे दम से बिना-ए-मय-ख़ाना

हस्ती-ए-शीशा-ओ-सुबू मुझ से

मुझ से आतिश-कदों में सोज़ ओ गुदाज़

ख़ानक़ाहों में हाए ओ हू मुझ से

शबनम-ए-ना-तावाँ सही लेकिन

इस गुलिस्ताँ में है नुमू मुझ से

इक तिगापूए दाइमी है हयात

कह रही है ये आबजू मुझ से

ताक़त-ए-जुम्बिश-ए-नज़र भी नहीं

अब हो क्या शरह-ए-आरज़ू मुझ से

(605) Peoples Rate This

Your Thoughts and Comments

Husn-e-fitrat Ki Aabru Mujhse In Hindi By Famous Poet Iqbal Suhail. Husn-e-fitrat Ki Aabru Mujhse is written by Iqbal Suhail. Complete Poem Husn-e-fitrat Ki Aabru Mujhse in Hindi by Iqbal Suhail. Download free Husn-e-fitrat Ki Aabru Mujhse Poem for Youth in PDF. Husn-e-fitrat Ki Aabru Mujhse is a Poem on Inspiration for young students. Share Husn-e-fitrat Ki Aabru Mujhse with your friends on Twitter, Whatsapp and Facebook.