ज़बानों पर नहीं अब तूर का फ़साना बरसों से

ज़बानों पर नहीं अब तूर का फ़साना बरसों से

तजल्ली-गाह-ए-ऐमन है दिल-ए-दीवाना बरसों से

कुछ ऐसा है फ़रेब-ए-नर्गिस-ए-मस्ताना बरसों से

कि सब भूले हुए हैं काबा ओ बुत-ख़ाना बरसों से

वो चश्म-ए-फ़ित्नागर है साक़ी-ए-मय-ख़ाना बरसों से

कि बाहम लड़ रहे हैं शीशा ओ पैमाना बरसों से

न अब मंसूर बाक़ी है न वो दार-ओ-रसन लेकिन

फ़ज़ा में गूँजता है नारा-ए-मस्ताना बरसों से

चमन के नौनिहाल इस ख़ाक में फूलें फलें क्यूँकर

यहाँ छाया हुआ है सब्ज़ा-ए-बेगाना बरसों से

ये आँखें मुद्दतों से ख़ूगर-ए-बर्क़-ए-तजल्ली हैं

नशेमन बिजलियों का है मिरा काशाना बरसों से

तिरे क़ुर्बां इधर भी एक झोंका अब्र-ए-रहमत का

जबीनों में गिरह है सज्दा-ए-शुकराना बरसों से

'सुहैल' अब किस को सज्दा कीजिए हैरत का आलम है

जबीं ख़ुद बन गई संग-ए-दर-ए-जानाना बरसों से

(733) Peoples Rate This

Your Thoughts and Comments

Zabanon Par Nahin Ab Tur Ka Fasana Barson Se In Hindi By Famous Poet Iqbal Suhail. Zabanon Par Nahin Ab Tur Ka Fasana Barson Se is written by Iqbal Suhail. Complete Poem Zabanon Par Nahin Ab Tur Ka Fasana Barson Se in Hindi by Iqbal Suhail. Download free Zabanon Par Nahin Ab Tur Ka Fasana Barson Se Poem for Youth in PDF. Zabanon Par Nahin Ab Tur Ka Fasana Barson Se is a Poem on Inspiration for young students. Share Zabanon Par Nahin Ab Tur Ka Fasana Barson Se with your friends on Twitter, Whatsapp and Facebook.