फ़ुग़ाँ के साथ तिरे राहत-ए-क़रार चले

फ़ुग़ाँ के साथ तिरे राहत-ए-क़रार चले

नवा-गरान-ए-वफ़ा हिम्मतों को हार चले

ये क्या कि फूल खिले और ज़ख़्म रिसने लगे

मिले सुकूँ भी अगर बाद-ए-नौ-बहार चले

ये मुल्तफ़ित सी निगाहें फ़रोग़-ए-जाम के साथ

चले ये दौर चले और बार-बार चले

हज़ार बरहमी-ए-ज़ुल्फ़-ए-यार भी देखी

तुझे तो काकुल-ए-गीती मगर सँवार चले

ख़याल-ओ-इल्म का भी मोल-तोल होता है

हमारे अहद में क्या क्या न कारोबार चले

हयात साथ चली काएनात साथ चली

अजीब शान से कुछ लोग सू-ए-दार चले

वही तो थे कभी चश्म-ओ-चराग़-ए-महफ़िल-ए-ग़म

जो बे-क़रार से उट्ठे जो अश्क-बार चले

थके थके से क़दम और तवील राह-ए-हयात

मुसाफ़िरान-ए-अदम बोझ सा उतार चले

ज़मीन-ए-फ़ैज़ सितारे लुटा रही है 'नज़र'

ये क्या कि आप यहाँ से भी सोगवार चले

(950) Peoples Rate This

Your Thoughts and Comments

Fughan Ke Sath Tere Rahat-e-qarar Chale In Hindi By Famous Poet Nazar Hyderabadi. Fughan Ke Sath Tere Rahat-e-qarar Chale is written by Nazar Hyderabadi. Complete Poem Fughan Ke Sath Tere Rahat-e-qarar Chale in Hindi by Nazar Hyderabadi. Download free Fughan Ke Sath Tere Rahat-e-qarar Chale Poem for Youth in PDF. Fughan Ke Sath Tere Rahat-e-qarar Chale is a Poem on Inspiration for young students. Share Fughan Ke Sath Tere Rahat-e-qarar Chale with your friends on Twitter, Whatsapp and Facebook.