दस्तूर साज़ी की कोशिश

यूँ तो हर शाइ'र की फ़ितरत में है कुछ दीवानगी

ग़ैर ज़िम्मेदारियाँ हैं उस की जुज़्व-ए-ज़िंदगी

अर्ज़-शे'रिस्तान में ये शाइ'राना ख़ासियत

कैंसर की तरह से जब फैलने बढ़ने लगी

मुख़्तलिफ़ स्कूल जब जंगी अखाड़े बन गए

फ़िक्र-ओ-फ़न में जब निराजी कैफ़ियत पैदा हुई

मुम्लिकत में ज़ाबता कोई न जब बाक़ी रहा

हर जगह क़ानून की होने लगी बे-हुरमती

एक इक तुक-बंद उस्तादों के मुँह आने लगा

लिख के सुब्ह-ओ-शाम नज़्में बे-तुकी से बे-तुकी

कूड़े-कर्कट की तरह हर सू नज़र आने लगें

ढेरियाँ ही ढेरियाँ दीवान-ए-ख़ास-ओ-आम की

हद तो ये है अहल-ए-मछली-शहर भी करने लगे

माही-गीरी छोड़ कर दिन रात फ़िक्र-ए-शाइरी

जिन से बोहरान-ए-ग़िज़ा स्टेट में पैदा हुआ

क़हत-ए-माही से बढ़ी हर चार जानिब भुक-मरी

चंद क़ौमी दर्द रखने वाले अहलुर्राय से

क़ौम की ना-गुफ़्ता-ब-हालत न जब देखी गई

एक दस्तूर-उल-अमल तय्यार करने के लिए

इक कमेटी 'अम्न'-साहब की सदारत में बनी

ताकि इस पर चल के नज़्म-ओ-ज़ब्त आए क़ौम में

ताकि कुछ तो मो'तदिल हो शाइ'रों की ज़िंदगी

दूसरे कामों में भी क़ौमी एनर्जी सर्फ़ हो

तुक फ़रोशी के अलावा भी तो मक़्सद हो कोई

दौर-ए-'अफ़लातून'-ओ-'तुलसी-दास' से 'इक़बाल' तक

हिस्ट्री कल शाइ'रों की इस कमेटी ने पढ़ी

दूसरे मुल्कों के आईन-ओ-ज़वाबित में जहाँ

जो मुनासिब बात थी वो छाँट कर रख ली गई

रात दिन की सख़्त मेहनत और जाँ-सोज़ी के बा'द

इस कमेटी ने रिपोर्ट अपनी बिल-आख़िर पेश की

खाका-ए-दस्तूर-ए-क़ौमी या'नी वो शे'री रिपोर्ट

'अम्न'-साहब ने रक़म की थी ब-सिंफ़-ए-मसनवी

इस पे राय-आम्मा मा'लूम करने के लिए

शाइ'रों को नक़्ल दस्तावेज़ की भेजी गई

मुख़्तलिफ़ अहल-ए-सुख़न ने अपने अपने तौर पर

राय दी दस्तूर में तरमीम या तनसीख़ की

मसनवी में ख़ामियाँ ढूँडें ज़बाँ की जा-ब-जा

एक शाइ'र ने जो थे शागिर्द-ए-नूह-नार्वी

सैकड़ों मिसरे बदल कर रख दिए कुछ इस तरह

नफ़्स-ए-मज़मूँ नज़्र हो कर रह गया इस्लाह की

उन का कहना था कि बंदिश चुस्त होनी चाहिए

शे'र के अंदर बला से हो न फ़िक्री ताज़गी

ना'त-गो हज़रात का कहना था शाइ'र के लिए

शर्त अव्वल है कि हो जाए वो कट्टर मज़हबी

आक़िबत की बात सोचे और मुनाजातें लिखे

उस के जन में कार-आमद शाइ'री है बस वही

ऐसे शाइ'र जो कि हामी थे तरक़्क़ी-वाद के

इन का कहना था कि शाइ'र का सुख़न हो मक़सदी

या'नी पहले से मुक़र्रर-कर्दा मौज़ूआत पर

मुम्लिकत में आम की जाए शुऊ'री शाइ'री

ख़्वाह शे'रिस्तान में इस का न हो कोई वजूद

लाज़िमन दिखलाई जाए कश्मकश तबक़ात की

इक क़बीला जो मुख़ालिफ़ था शुऊ'री फ़िक्र का

था तरक़्क़ी-वादियों से जिस को बुग़्ज़-ए-लिल्लही

इस क़बीले का ये कहना था कि शाइ'र का कलाम

लाज़िमन हो इक मुअ'म्मा क़ैद-ए-मा'नी से बरी

जिस को शाइ'र ख़ुद न समझे नज़्म कर लेने के बा'द

जिस को पढ़ कर गुम हो अक़्ल-ए-मौलवी-ए-मानवी

देख कर दस्तूर में नज़्म-ओ-नसक़ का तज़्किरा

सख़्त बरहम हो गए कुल शाइरान-ए-नक्सली

इन का नुक्ता था कि शाइ'र फ़ितरतन आज़ाद है

उस पे लग सकती नहीं पाबंदियाँ तंज़ीम की

ज़िंदगी में ज़ाबता लाने के बिल्कुल थे ख़िलाफ़

साथ नक्सल-वादियों के दूसरे हज़रात भी

मुख़्तसर ये है कि सब ने रद किया दस्तूर को

सारी मेहनत 'अम्न'-साहब की अकारत हो गई

देख कर ना-आक़िबत अंदेशी-ए-अहल-ए-सुख़न

इस तरह गोया हुई उन की मोहज़्ज़ब ख़ामुशी

मेंडकों को तोलना आसाँ नहीं है जिस तरह

शाइ'रों को भी मुनज़्ज़म करना मुश्किल है यूँही

(2334) Peoples Rate This

Your Thoughts and Comments

Dastur Sazi Ki Koshish In Hindi By Famous Poet Raza Naqvi Vahi. Dastur Sazi Ki Koshish is written by Raza Naqvi Vahi. Complete Poem Dastur Sazi Ki Koshish in Hindi by Raza Naqvi Vahi. Download free Dastur Sazi Ki Koshish Poem for Youth in PDF. Dastur Sazi Ki Koshish is a Poem on Inspiration for young students. Share Dastur Sazi Ki Koshish with your friends on Twitter, Whatsapp and Facebook.