आराम Poetry

इश्क़-आबाद की शाम

फ़ैज़ अहमद फ़ैज़

बरसों से तिरा ज़िक्र तिरा नाम नहीं है

दिल महव-ए-तमाशा-ए-लब-ए-बाम नहीं है

नाकामी-ए-सद-हसरत-ए-पारीना से डर जाएँ

ज़ुहूर-उल-इस्लाम जावेद

काम इतने हैं कि आराम नहीं जानते हैं

ज़ीशान साजिद

और गुलों का काम नहीं होता कोई

ज़ेब ग़ौरी

महशरिस्तान-ए-जुनूँ में दिल-ए-नाकाम आया

ज़रीफ़ लखनवी

वो तिरी ज़ुल्फ़ का साया हो कि आग़ोश तिरा

ज़की काकोरवी

तीरा-ओ-तार ज़मीनों के उजाले दरिया

ज़ाहिद फ़ारानी

हाँ वो मैं ही था कि जिस ने ख़्वाब ढोया सुब्ह तक

ज़हीर सिद्दीक़ी

ये सब कहने की बातें हैं हम उन को छोड़ बैठे हैं

ज़हीर देहलवी

बुतों से बच के चलने पर भी आफ़त आ ही जाती है

ज़हीर देहलवी

किसी का हो नहीं सकता है कोई काम रोज़े में

ज़फ़र कमाली

थकना भी लाज़मी था कुछ काम करते करते

ज़फ़र इक़बाल

न कोई बात कहनी है न कोई काम करना है

ज़फ़र इक़बाल

जहाँ लम्हा-ए-शाम बिखेर दिया

ज़फ़र इक़बाल

चमके गा अभी मेरे ख़यालात से आगे

ज़फ़र इक़बाल

अभी तो करना पड़ेगा सफ़र दोबारा मुझे

ज़फ़र इक़बाल

अश्क-ए-ग़म आँख से बाहर भी नहीं आने का

ज़फ़र गोरखपुरी

उस से मेरा तो कोई दूर का रिश्ता भी नहीं

ज़फ़र अंसारी ज़फ़र

वक़्त बस रेंगता है उम्र के साथ

यासमीन हबीब

मज़ाक़-ए-काविश-ए-पिन्हाँ अब इतना आम क्या होगा

याक़ूब उस्मानी

बाग़ों में आएगी कब बहार

यहया अमजद

अब तो आराम करें सोचती आँखें मेरी

वज़ीर आग़ा

तुम जो आते हो

वज़ीर आग़ा

कितनी बार बुलाया उस को

वज़ीर आग़ा

धूप के साथ गया साथ निभाने वाला

वज़ीर आग़ा

तेरी याद

वसीम बरेलवी

लबों पे शिकवा-ए-अय्याम भी नहीं होता

वक़ार सहर

हो रही है दर-ब-दर ऐसी जबीं-साई कि बस

वामिक़ जौनपुरी

Collection of Hindi Poetry. Get Best Hindi Shayari, Poems and ghazal. Read shayari Hindi, poetry by famous Hindi and Urdu poets. Share poetry hindi on Facebook, Whatsapp, Twitter and Instagram.