फ़रिश्ते इम्तिहान-ए-बंदगी में हम से कम निकले

फ़रिश्ते इम्तिहान-ए-बंदगी में हम से कम निकले

मगर इक जुर्म की पादाश में जन्नत से हम निकले

ग़म-ए-दुनिया-ओ-दीं उन को न फ़िक्र-ए-नेक-ओ-बद उन को

मोहब्बत करने वाले बे-नियाज़-ए-बेश-ओ-कम निकले

ग़रज़ का'बे से थी जिन को न था मतलब कलीसा से

हद-ए-दैर-ओ-हरम से भी वो आगे दो-क़दम निकले

सहर की मंज़िल-ए-रौशन पे जा पहुँचे वो दीवाने

शब-ए-तारीक में जो नूर का ले कर अलम निकले

मह-ओ-ख़ुर्शीद बन कर आसमानों पर हुए रौशन

दो आँसू वो मिरी आँखों से जो शाम-ए-अलम निकले

सुकूत-ए-शब में हम ने एक रंगीं ख़्वाब देखा था

मसर्रत जावेदाँ होगी अगर ता'बीर-ए-ग़म निकले

न मिलती हों शराब-ए-ज़िंदगी की तल्ख़ियाँ जिन में

सुना है वो 'ज़िया' के दिल से ऐसे शेर कम निकले

(803) Peoples Rate This

Your Thoughts and Comments

Farishte Imtihan-e-bandagi Mein Humse Kam Nikle In Hindi By Famous Poet Zia Fatehabadi. Farishte Imtihan-e-bandagi Mein Humse Kam Nikle is written by Zia Fatehabadi. Complete Poem Farishte Imtihan-e-bandagi Mein Humse Kam Nikle in Hindi by Zia Fatehabadi. Download free Farishte Imtihan-e-bandagi Mein Humse Kam Nikle Poem for Youth in PDF. Farishte Imtihan-e-bandagi Mein Humse Kam Nikle is a Poem on Inspiration for young students. Share Farishte Imtihan-e-bandagi Mein Humse Kam Nikle with your friends on Twitter, Whatsapp and Facebook.