कितनी देर और है ये बज़्म-ए-तरब-नाक न कह

कितनी देर और है ये बज़्म-ए-तरब-नाक न कह

रास आती है किसे गर्दिश-ए-अफ़्लाक न कह

क्यूँ ठहरता नहीं गुलज़ार में कोई मौसम

क्या कशिश रखती है ख़ुशबू-ए-तह-ए-ख़ाक न कह

देख तो रंग तमन्नाओं की बेताबी के

कल फ़ना है मगर ऐ साहब-ए-इदराक न कह

दर्द की आँच अबद तक है किसी रूप में हो

आज के फूल को आइंदा के ख़ाशाक न कह

लफ़्ज़ की ज़र्ब तो है साइक़ा-ओ-संग से सख़्त

दिल बहुत नर्म हैं ना-गुफ़्ता-ओ-बे-बाक न कह

ग़म-गुसारों को भी है अपने ही आलाम से काम

दिल पे जो बीती है ऐ दीदा-ए-नमनाक न कह

शौक़ ही ज़ीस्त भी है ज़ीस्त की आगाही भी

इस मसीहा-नफ़स-आज़ार को सफ़्फ़ाक न कह

दिल-ए-फ़रहाद जुनूँ-फ़हम को नादाँ न समझ

चश्म-ए-परवेज़-ए-तुनुक-होश को चालाक न कह

ख़ुद-नुमाई थी कि था महबस-ए-पिंदार का ख़ौफ़

क़ैस के जैब-ओ-गरेबाँ रहे क्यूँ चाक न कह

बुझ न जाएँ कहीं दिल अहल-ए-तमन्ना के 'ज़िया'

कैसे शो'लों से है ये जश्न-ए-तरब-नाक न कह

(611) Peoples Rate This

Your Thoughts and Comments

Kitni Der Aur Hai Ye Bazm-e-tarab-nak Na Kah In Hindi By Famous Poet Zia Jalandhari. Kitni Der Aur Hai Ye Bazm-e-tarab-nak Na Kah is written by Zia Jalandhari. Complete Poem Kitni Der Aur Hai Ye Bazm-e-tarab-nak Na Kah in Hindi by Zia Jalandhari. Download free Kitni Der Aur Hai Ye Bazm-e-tarab-nak Na Kah Poem for Youth in PDF. Kitni Der Aur Hai Ye Bazm-e-tarab-nak Na Kah is a Poem on Inspiration for young students. Share Kitni Der Aur Hai Ye Bazm-e-tarab-nak Na Kah with your friends on Twitter, Whatsapp and Facebook.