फिर सर-ए-दार-ए-वफ़ा रस्म ये डाली जाए

फिर सर-ए-दार-ए-वफ़ा रस्म ये डाली जाए

गुल हो इक शम्अ तो इक और जला ली जाए

दूर करनी हो जो तारीकी-ए-राह-ए-इख़्लास

मशअ'ल-ए-अश्क-ए-नदामत ही जला ली जाए

आइना मैं ने सर-ए-राहगुज़र रखा है

ताकि अहबाब की कुछ ख़ाम-ख़याली जाए

हाल ये तर्क-ए-तअ'ल्लुक़ पे हुआ करता है

जैसे मछली कोई पानी से निकाली जाए

तू इसे अपनी तमन्नाओं में शामिल कर ले

हम से तो तेरी तमन्ना न सँभाली जाए

आप के उठने पे महफ़िल का ये आलम पाया

जैसे हँसते हुए चेहरों से बहाली जाए

ख़स्तगी देखी है 'जावेद' फ़सील-ए-दिल की

इस पे बुनियाद शब-ए-ग़म की न डाली जाए

(619) Peoples Rate This

Your Thoughts and Comments

Phir Sar-e-dar-e-wafa Rasm Ye Dali Jae In Hindi By Famous Poet Zuhoor-ul-Islam Javed. Phir Sar-e-dar-e-wafa Rasm Ye Dali Jae is written by Zuhoor-ul-Islam Javed. Complete Poem Phir Sar-e-dar-e-wafa Rasm Ye Dali Jae in Hindi by Zuhoor-ul-Islam Javed. Download free Phir Sar-e-dar-e-wafa Rasm Ye Dali Jae Poem for Youth in PDF. Phir Sar-e-dar-e-wafa Rasm Ye Dali Jae is a Poem on Inspiration for young students. Share Phir Sar-e-dar-e-wafa Rasm Ye Dali Jae with your friends on Twitter, Whatsapp and Facebook.