जब वो मह-ए-रुख़्सार यकायक नज़र आया

जब वो मह-ए-रुख़्सार यकायक नज़र आया

उस माह की तलअत सूँ सुरज दिल में दर आया

तेरे रुख़-ए-रौशन कूँ सियह ख़त में सिरीजन

देखा सो कहा अब्र-ए-सियह में क़मर आया

गुलशन में चल ऐ सर्व-ए-सही सैर की ख़ातिर

तुझ वास्ते ले गुल तबक़-ए-नक़्द-ए-ज़र आया

तुझ जाम-ए-नयन में है अजब बादा-ए-सरशार

यक दीद सती जिस के हो दिल बे-ख़बर आया

मुहताज-ए-कबूतर नहीं मुझ शौक़ का नामा

क़ासिद हो मिरा दिल ले सजन की ख़बर आया

कहते हैं सब अहल-ए-सुख़न इस शेर कूँ सुन कर

तुझ तब्अ में 'दाऊद' 'वली' का असर आया

(517) Peoples Rate This

Your Thoughts and Comments

Jab Wo Mah-e-ruKHsar Yakayak Nazar Aaya In Hindi By Famous Poet Daud Aurangabadi. Jab Wo Mah-e-ruKHsar Yakayak Nazar Aaya is written by Daud Aurangabadi. Complete Poem Jab Wo Mah-e-ruKHsar Yakayak Nazar Aaya in Hindi by Daud Aurangabadi. Download free Jab Wo Mah-e-ruKHsar Yakayak Nazar Aaya Poem for Youth in PDF. Jab Wo Mah-e-ruKHsar Yakayak Nazar Aaya is a Poem on Inspiration for young students. Share Jab Wo Mah-e-ruKHsar Yakayak Nazar Aaya with your friends on Twitter, Whatsapp and Facebook.