बदन को छू लें तिरे और सुर्ख़-रू हो लें

बदन को छू लें तिरे और सुर्ख़-रू हो लें

बिखरना ही है तो हम क्यूँ न मुश्कबू हो लें

चलें हैं इश्क़ की करने अगर इबादत हम

बहा के अश्क ज़रा पहले बा-वज़ू हो लें

छुपा के ख़्वाबों ख़यालों को दिल के गोशे में

ज़रा सी देर हक़ीक़त से रू-ब-रू हो लें

बरस गए तो भला आब के सिवा क्या हैं

उन आँसुओं की है क़ीमत की जो लहू हो लें

किताब-ए-दिल को वरक़-दर-वरक़ दिखा देंगे

ज़रा हम आप से तुम और तुम से तू हो लें

न मुझ में मैं ही रहूँ और न तुझ में तू ही रहे

मिलें कुछ ऐसे कि दोनों ही हू-ब-हू हो लें

सफ़र वफ़ा का अधूरा अधूरा है जान लो 'नायाब'

कि जब तलक न दिल-ओ-जाँ लहू लहू हो लें

(841) Peoples Rate This

Your Thoughts and Comments

Badan Ko Chhu Len Tere Aur SurKH-ru Ho Len In Hindi By Famous Poet Nitin Nayab. Badan Ko Chhu Len Tere Aur SurKH-ru Ho Len is written by Nitin Nayab. Complete Poem Badan Ko Chhu Len Tere Aur SurKH-ru Ho Len in Hindi by Nitin Nayab. Download free Badan Ko Chhu Len Tere Aur SurKH-ru Ho Len Poem for Youth in PDF. Badan Ko Chhu Len Tere Aur SurKH-ru Ho Len is a Poem on Inspiration for young students. Share Badan Ko Chhu Len Tere Aur SurKH-ru Ho Len with your friends on Twitter, Whatsapp and Facebook.