था जहाँ मदरसा-ए-शीरी-ओ-शाहंशाही

था जहाँ मदरसा-ए-शीरी-ओ-शाहंशाही

आज इन ख़ानक़हों में है फ़क़त रूबाही

नज़र आई न मुझे क़ाफ़िला-सालारों में

वो शबानी कि है तम्हीद-ए-कलीमुल-लाही

लज़्ज़त-ए-नग़्मा कहाँ मुर्ग़-ए-ख़ुश-अलहाँ के लिए

आह उस बाग़ में करता है नफ़स कोताही

एक सरमस्ती ओ हैरत है सरापा तारीक

एक सरमस्ती ओ हैरत है तमाम आगाही

सिफ़त-ए-बर्क़ चमकता है मिरा फ़िक्र-ए-बुलंद

कि भटकते न फिरें ज़ुल्मत-ए-शब में राही

(666) Peoples Rate This

Your Thoughts and Comments

Tha Jahan Madrasa-e-shiri-o-shahanshahi In Hindi By Famous Poet Allama Iqbal. Tha Jahan Madrasa-e-shiri-o-shahanshahi is written by Allama Iqbal. Complete Poem Tha Jahan Madrasa-e-shiri-o-shahanshahi in Hindi by Allama Iqbal. Download free Tha Jahan Madrasa-e-shiri-o-shahanshahi Poem for Youth in PDF. Tha Jahan Madrasa-e-shiri-o-shahanshahi is a Poem on Inspiration for young students. Share Tha Jahan Madrasa-e-shiri-o-shahanshahi with your friends on Twitter, Whatsapp and Facebook.