काह Poetry

शम-ए-हक़ शोबदा-ए-हर्फ़ दिखा कर ले जाए

ज़िया जालंधरी

कैसे दुख कितनी चाह से देखा

ज़िया जालंधरी

ग़म-ए-जाँ तू है अगर राहत-ए-जाँ है तू है

वलीउल्लाह मुहिब

यास ओ उमीद

उरूज क़ादरी

मिरा दिल बार-ए-इश्क़ ऐसा उठाने में दिलावर है

शैख़ ज़हूरूद्दीन हातिम

तरीक़त में अगर ज़ाहिद मुझे गुमराह जाने है

शैख़ ज़हूरूद्दीन हातिम

वाक़िआ कोई न जन्नत में हुआ मेरे ब'अद

शहज़ाद अहमद

न दिखाइयो हिज्र का दर्द-ओ-अलम तुझे देता हूँ चर्ख़-ए-ख़ुदा की क़सम

शाह नसीर

हरम को शैख़ मत जा है बुत-ए-दिल-ख़्वाह सूरत में

शाह नसीर

देख तू यार-ए-बादा-कश! मैं ने भी काम क्या किया

शाह नसीर

सुना हम को आते जो अंदर से बाहर

शाद लखनवी

बरहमन बुत-कदे के शैख़ बैतुल्लाह के सदक़े

मोहम्मद रफ़ी सौदा

वो ख़ूँ बहा कि शहर का सदक़ा उतर गया

सलीम शाहिद

क़ब्र पर होवें दो न चार दरख़्त

रिन्द लखनवी

दिल से जब आह निकल जाएगी

इफ़्तिख़ार राग़िब

ताक़-ए-अबरू हैं पसंद-ए-तब्अ इक दिल-ख़्वाह के

हैदर अली आतिश

सब्ज़ा बाला-ए-ज़क़न दुश्मन है ख़ल्क़ुल्लाह का

हैदर अली आतिश

क़त्ल उश्शाक़ किया करते हैं

गोया फ़क़ीर मोहम्मद

किस नाज़ से वाह हम को मारा

गोया फ़क़ीर मोहम्मद

नक़्श-ए-नाज़-ए-बुत-ए-तन्नाज़ ब-आग़ोश-ए-रक़ीब

ग़ालिब

हर आईना इक अक्स-ए-नौ ढूँडता है

अज़ीज़ तमन्नाई

वहशत में सू-ए-दश्त जो ये आह ले गई

आसिफ़ुद्दौला

इक अजब आलम है दिल का ज़िंदगी की राह में

अख्तर सईदी

दिल आईना है मगर इक निगाह करने को

अहमद जावेद

Collection of Hindi Poetry. Get Best Hindi Shayari, Poems and ghazal. Read shayari Hindi, poetry by famous Hindi and Urdu poets. Share poetry hindi on Facebook, Whatsapp, Twitter and Instagram.