लहू Poetry

हासिल किसी से नक़्द-ए-हिमायत न कर सका

ग़ुलाम हुसैन साजिद

अब शहर में कहाँ रहे वो बा-वक़ार लोग

फ़ज़ा इब्न-ए-फ़ैज़ी

जो पहले ज़रा सी नवाज़िश करे है

फ़ारूक़ रहमान

सलाम लोगो

हबीब जालिब

मैं बच गई माँ

ज़ेहरा निगाह

हर-सम्त ताज़गी सी झरनों की नग़्मगी से कितनी

जाफ़र रज़ा

वो बुत बिना निगाह जमाए खड़ा रहा

अनवर अंजुम

सियाह-रात पशेमाँ है हम-रकाबी से

अहमद फ़ाख़िर

लज़्ज़त-ए-हिज्र ने तड़पाया बहुत रुस्वा किया

नसीम शेख़

कोई चराग़ न जुगनू सफ़र में रक्खा गया

वफ़ा नक़वी

बटे रहोगे तो अपना यूँही बहेगा लहू

हबीब जालिब

यूँ पाबंद-ए-सलासिल हो कर कौन फिरे बाज़ारों में

असरार ज़ैदी

गाँधी के बा'द

इज़हार मलीहाबादी

टीपू-सुल्तान

इज्तिबा रिज़वी

ख़रगोश का ग़म

बलराज कोमल

हिदायत

एहतिशाम अख्तर

आख़िरी आदमी

फ़ख़्र-ए-आलम नोमानी

दुश्मन की तरफ़ दोस्ती का हाथ

मुनीर नियाज़ी

बदन को छू लें तिरे और सुर्ख़-रू हो लें

वक़्त के पास कहाँ सारे हवाले होंगे

ज़ुल्फ़िकार नक़वी

कातता हूँ रात-भर अपने लहू की धार को

ज़ुल्फ़िक़ार अहमद ताबिश

सम्तों का ज़वाल

ज़ुबैर रिज़वी

हम कहाँ आ गए

ज़ुबैर रिज़वी

कहाँ मैं जाऊँ ग़म-ए-इश्क़-ए-राएगाँ ले कर

ज़ुबैर रिज़वी

गोश-ए-मुश्ताक़-ए-सदा-ए-नाला-ए-दिल अब कहाँ

ज़ियाउद्दीन अहमद शकेब

तसलसुल

ज़िया जालंधरी

शहर-ए-आशोब

ज़िया जालंधरी

इम्कान

ज़िया जालंधरी

हाबील

ज़िया जालंधरी

बड़ा शहर

ज़िया जालंधरी

Collection of Hindi Poetry. Get Best Hindi Shayari, Poems and ghazal. Read shayari Hindi, poetry by famous Hindi and Urdu poets. Share poetry hindi on Facebook, Whatsapp, Twitter and Instagram.