अफ़्सूँ पहली बारिश का

अफ़्सूँ पहली बारिश का

इक धुलता लफ़्ज़ निगारिश का

इक चेहरा अक्स बहारों का

इक आईना रुख़्सारों का

इक ख़ेमा-ए-अब्र दुआओं का

इक साया नर्म रिदाओं का

इक खेल पुराना चाहत का

इक दर्द बहाना राहत का

इक पेड़ घनेरी यादों का

इक महका बाग़ मुरादों का

इक घर नीची दीवारों का

इक ज़ीना चाँद-सितारों का

इक एल्बम हुस्न जज़ीरों का

इक सरमाया तस्वीरों का

इक तपता सोना तन-मन का

इक चढ़ता दरिया जोबन का

इक जगमग मंज़र यादों का

इक जलता दीप इरादों का

इक ताइर दूर जहानों का

इक सूरत-गर इमकानों का

इक दौर अजब नादानी का

इक रंगीं मोड़ कहानी का

इक गोल चहकती चिड़ियों का

इक नर्म बिछौना गुड़ियों का

इक शोर उजड़ते शहरों का

इक रंज सिमटती नहरों का

इक ढलता सूरज बस्ती का

इक सूना आँगन हस्ती का

इक थमता साज़ अज़ानों का

इक बढ़ता शोर दुकानों का

इक रावी अगले वक़्तों का

इक नौहागर ख़ुश-बख़्तों का

इक मुबहम लफ़्ज़ इबारत का

इक रौशन बोल हिकायत का

इक घेरा गोरी बाँहों का

इक डेरा नर्म पनाहों का

इक ठहरा पुल बरसातों का

इक जादू काली रातों का

इक ढेर लगेगा ईंटों का

इक तख़्त ठिकाना बेटों का

इक वीराना गुलज़ारों का

इक रेत-नगर आसारों का

इक उड़ता रंग मिनारों का

इक दाम फ़ना के तारों का

इक सन्नाटा फ़रियादों का

इक क़हर सितम-ईजादों का

इक ख़ाली जाम हक़ीक़त का

इक सच्चा नाम मोहब्बत का

(1521) Peoples Rate This

Your Thoughts and Comments

Afsun Pahli Barish Ka In Hindi By Famous Poet Masood Mirza Niyazi. Afsun Pahli Barish Ka is written by Masood Mirza Niyazi. Complete Poem Afsun Pahli Barish Ka in Hindi by Masood Mirza Niyazi. Download free Afsun Pahli Barish Ka Poem for Youth in PDF. Afsun Pahli Barish Ka is a Poem on Inspiration for young students. Share Afsun Pahli Barish Ka with your friends on Twitter, Whatsapp and Facebook.